ALL राजनीति मनोरंजन तकनीकी खेल कारोबार धार्मिक अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय ई पेपर पीआर न्यूजवायर
उबर को पहली तिमाही में 2.9 अरब डॉलर का घाटा, विदेशी बाजारों में कंपनी के निवेश का मूल्य 2.1 अरब डॉलर गिरा
May 8, 2020 • Rashtra Times

नई दिल्ली. एप आधारित परिवहन सेवा प्रदाता कंपनी उबर को चालू कैलेंडर वर्ष की पहली तिमाही (जनवरी-मार्च) में 2.9 अरब डॉलर का घाटा हुआ। नए कोरोनावायरस की महामारी के कारण विदेशी बाजारों में कंपनी के निवेश पर बहुत बुरा असर हुआ है। बैलेंस शीट को ठीक रखने के लिए कंपनी कॉस्ट कटिंग के रास्ते पर चल रही है और अपने फूड डिलीवरी कारोबार पर ध्यान दे रही है।

बाइक और स्कूटर कारोबार 'जंप' को बेच रही है कंपनी
कंपनी ने गुरुवार (भारतीय समय के अनुसार शुक्रवार सुबह) को कहा वह अपने बाइक और स्कूटर कारोबार 'जंप' को बेच रही है। जंप की बिक्री लाइम को की जाएगी। लाइम में उबर 8.5 करोड़ डॉलर का निवेश कर रही है। जंप को एक तिमाही में करीब 6 करोड़ डॉलर का घाटा हो रहा था।

उबर ईट्स में अधिक संसाधन लगा रही हैं कंपनी
उबर के सीईओ दारा खोसरोशाही ने एक बयान में कहा कि महामारी के कारण हमारा परिवहन कारोबार बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। अपने बैलेंसशीट को ठीक रखने के लिए हमने तुरंत कदम उठाए हैं और उबर ईट्स में अधिक संसाधन लगाया है। फूड डिलीवरी कारोबार में तेजी दिख रही है। इसके साथ ही बाजार फिर से खुल रहा है। इससे हम उत्साहित हैं।

3,700 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल रही है उबर
सैन फ्रांसिस्को की कंपनी उबर ने बुधवार को कहा था कि वह 3,700 पूर्णकालिक कर्मचारियों को नौकरी पर से हटा रहा है। यह संख्या उबर के कुल कर्मचारियों का 14 फीसदी है। अमेरिका में उबर की मुख्य प्रतियोगी कंपनी लिफ्ट ने पिछले महीने कहा था कि मांग में गिरावट के कारण वह 982 कर्मचारियों (कुल कर्मचारियों का 17 फीसदी) को नौकरी से हटा रही है। पश्चिम एशिया में उबर की सहायक कंपनी करीम ने अपने 31 फीसदी कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया है।

कुल आय 14 फीसदी बढ़कर 3.54 अरब डॉलर पर पहुंची
कंपनी को पहली तिमाही में 3.54 अरब डॉलर की आय हुई, जो पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 14 फीसदी ज्यादा है। कंपनी के फूड डिलीवर कारोबाार की आय इस दौरान 53 फीसदी बढ़ी, क्योंकि लॉकडाउन में घर बैठे लोगों ने ज्यादा फूड ऑर्डर किया। जिन देशों में कंपनी का फूड डिलीवरी कारोबार फायदे में चल रहा था, उन देशों में उबर फूड डिलीवरी से बाहर निकल गई है। इन देशों में चेक रिपब्लिक, मिस्र, होंडुरास जैसे देश शामिल हैं।

फूड डिलीवरी कारोबार की बुकिंग 54 % बढ़ी, राइड कारोबार की बुकिंग 3 % गिरी
खोसरोशाही ने कहा कि हमारा परिवहन कारोबार बहुत सुस्त चल रहा है। हमारे ईट्स कारोबार में तेजी चल रही है। कंपनी की कांस्टेंट करेंसी के आधार पर कुल बुकिंग 8 फीसदी बढ़कर 15.8 अरब डॉलर दर्ज की गई। फूड डिलीवरी कारोबार की बुकिंग में 54 फीसदी तेजी दर्ज की गई, जबकि राइड कारोबार की बुकिंग में 3 फीसदी गिरावट दर्ज की गई।

विदेशी निवेश का मूल्य 2.1 अरब डॉलर गिरा
पहली तिमाही में विदेशी बाजारों में उबर के निवेश के मूल्य में 2.1 अरब डॉलर की गिरावट दर्ज की गई। कंपनी ने चीन की राइड हेलिंग कंपनी दीदी और सिंगापुर की कंपनी ग्रैब में निवेश किया हुआ है। इसके साथ ही कुछ अन्य देशों में भी कंपनी ने निवेश किया हुआ है।

जून तिमाही में भी खराब प्रदर्शन की आशंका
अप्रैल-जून तिमाही में भी कंपनी का प्रदर्शन खराब रहने की आशंका है। खोसरोशाही ने कहा कि दुनियाभर में पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले राइड में 80 फीसदी की गिरावट आई है। हालांकि पिछले तीन सप्ताहों से राइड्स में बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है। अमेरिका में कारोबारी गतिविधियों की फिर से शुरुआत करने वाले दो प्रांतों जॉर्जिया और टेक्सास के बड़े शहरों में बुकिंग में सबसे निचले स्तर के मुकाबले क्रमश: 43 फीसदी और 50 फीसदी की तेजी दर्ज की गई है।

फूड कारोबार की मांग अप्रैल में 89 फीसदी बढ़ी
उन्होंने कहा कि ईट्स कारोबार की मांग अप्रैल में 89 फीसदी बढ़ी है। इसमें भारतीय कारोबार शामिल नहीं है। मध्य मार्च के मुकाबले मांग में भारी तेजी दर्ज की गई है। अमेरिका में उबर के बेहतर भविष्य में ग्रॉसरी डिलीवरी कारोबार की भी अहम भूमिका रह सकती है।