ALL राजनीति मनोरंजन तकनीकी खेल कारोबार धार्मिक अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय ई पेपर पीआर न्यूजवायर
पुलिस हेडक्वार्टर पर तैनात जवान भी कोरोना पॉजिटिव, बैरक में साथ रहे 31 जवान क्वारैंटाइन किए गए
April 27, 2020 • Rashtra Times

जयपुर. शहर में सोमवार को कोरोना के 9 केस पॉजिटिव पाए गए। इसमें पीएचक्यू (पुलिस हेडक्वार्टर) के मुख्य गेट पर ड्यूटी करने वाला आरएसी का जवान भी पॉजिटिव पाया गया। जो घाटगेट का रहने वाला है। जिसके साथ बैरक में रहने वाले 31 जवानों को क्वारैंटाइन किया जा रहा है। बता दें कि घाटगेट में लगातार कोरोना के नए मामले सामने आ रहे हैं। जहां पहले से ही कर्फ्यू लागू है। वहीं जयपुर में कुल संक्रमितों का आंकड़ा 819 पहुंच गया। 

तीन की मौत
दिन की पहली मौत सूरजपोल के रहने वाले 28 साल के युवक की हुई। जिसे 24 अप्रैल को अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। दूसरी मौत हीदा की मोरी की रहने वाली 62 साल की महिला की हुई। वहीं तीसरी मौत हाजी कॉलोनी की 24 साल की लड़की की हुई। जिसकी डिलिवरी के दौरान मौत हो गई थी। रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई। 

वहीं पुलिस मुख्यालय के परिसर, बैरक और जवान के मूवमेंट वाले क्षेत्रों को भी सैनेटाइज किया जा रहा है। इसके साथ सोडाला और महेश नगर में कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद गलियों को सील किया जा रहा है।  इससे पहले रविवार को 16 नए कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए। जिसमें रामगंज में 6, पहाड़गंज में 2, किशनपोल, सांगानेर, जालूपुरा, आगरा रोड, गंगापोल, शास्त्रीनगर, गलता जी गेट और सोडाला में 1-1 संक्रमित मिला।

सबसे अधिक 8 मौतें रामगंज में, 21 मृतकों में सिर्फ 3 की उम्र 50 से नीचे
रविवार को घाटगेट की दो महिलाओं की भी मौत हुई। 50 वर्षीय वृद्धा एसएमएस में शनिवार को मृत लाई गई थी। सैंपल लेने के बाद रविवार को पॉजिटिव मिली थी। वहीं 55 वर्षीय दूसरी महिला की भी 24 अप्रैल को एसएमए में मौत हो गई थी। रिपोर्ट अब पॉजिटिव आई है। इसी के साथ जयपुर में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 24 पहुंच गया है। इन सभी मृतकों में सिर्फ 3 की उम्र 50 से नीचे थे। कोरोना से अभी तक उन्हीं की मौत हुई है जिन्हें किडनी, डायबिटीज और बीपी जैसी दिक्कतें पहले से हैं। वहीं जयपुर में 2 उत्तरप्रदेश से आए बच्चों की भी मौत हो चुकी है।

रामगंज में 5 दिन से सैंपलिंग ही बंद, जो पॉजिटिव आ रहे वे पहले से क्वारेंटाइन हैं
कोरोना के एपिसेंटर रहे रामगंज में अचानक केस घट गए हैं। रविवार को भी यहां सिर्फ 6 मरीज सामने आए हैं। वहीं बीते 11 दिन में यहां सिर्फ 130 मरीज मिले हैं। ...लेकिन केस घटने के पीछे दरअसल, सैंपलिंग नहीं होना है। बीते 5 दिन से यहां डोर-टू-डोर सैंपलिंग बंद है। जो लोग क्वारेंटाइन है उन्हीं के सैंपल लिए जा रहे हैं। 21 अप्रैल से अब तक 5 दिन में सिर्फ 709 सैंपल लिए गए। यानी रोज का आैसत सिर्फ 141, जबकि, 11 अप्रैल को ही यहां एक दिन में सैंपलिंग का आंकड़ा 876 तक जा पहुंचा था।

जयपुर में तीन मार्च को सामने आया था पहला केस
राजस्थान में कोरोना संक्रमण का पहला केस तीन मार्च को जयपुर में इटली के नागरिक में सामने आया था। इसके बाद उसकी पत्नी भी पॉजिटिव पाई गई थी। 31 मार्च तक ये आंकड़ा कुल 93 पर पहुंचा था। इसके बाद सिर्फ तीन दिन में 4 अप्रैल को 200 के पार पहुंच गया। वहीं, दो दिन बाद ही 6 अप्रैल को कुल संक्रमित लोगों की संख्या 300 के पार हो गई। 9 अप्रैल को एक साथ 80 केस आने से ये आंकड़ा 450 के पार पहुंचा। जो 18 अप्रैल तक 1351 पर पहुंच गया। 24 अप्रैल को 2008 पहुंच गया। 27 अप्रैल को आंकड़ा 2221 पहुंच गया।

करीब 2.6 लाख की आबादी है रामगंज और इससे सटे इलाकों की
जयपुर के रामगंज के युवक के ओमान से आने के बाद 17 मार्च से 24 मार्च तक वह क्वारैन्टाइन में नहीं रहा और संक्रमण फैलाता रहा। अब तक उसी के कारण दूसरे उसी इलाके के पॅाजिटिव युवक, उसके परिजन और रिश्तेदार और संपर्क वाले 95 लोग संक्रमित पाए जा चुके हैं। इन 95 ने आगे किन-किनको संक्रमित किया, इस दायरे में 2.6 लाख लोग बताए जा रहे हैं। ऐसे में जांच होने के बाद इस बात की आशंका है कि रामगंज में संक्रमितों का आंकड़ा और बढ़ सकता है।