ALL राजनीति मनोरंजन तकनीकी खेल कारोबार धार्मिक अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय ई पेपर पीआर न्यूजवायर
मैच फिक्सिंग पर रमीज राजा ने कहा- दागी खिलाड़ियों को किराने की दुकान खोल लेना चाहिए
April 14, 2020 • Rashtra Times

कराची. पूर्व पाकिस्तानी कप्तान रमीज राजा ने मैच फिक्सिंग को लेकर मोहम्मद आमिर समेत अन्य खिलाड़ियों को जमकर फटकार लगाई। उन्होंने कहा कि दागी खिलाड़ियों को राशन या किराने की दुकान खोल लेनी चाहिए। स्पॉट फिक्सिंग के मामले में जेल की सजा काट चुके आमिर को प्रतिबंधित भी किया गया था। आमिर ने 27 साल की उम्र में टेस्ट से संन्यास ले लिया है। इससे पहले पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर जावेद मियांदाद ने मैच फिक्सर की तुलना हत्यारे से करते हुए फांसी की सजा देने की बात कही थी।

पूर्व सलामी बल्लेबाज रमीज ने दागी खिलाड़ियों को खेल में वापस लाने की आलोचना करते हुए कहा कि इससे पाकिस्तान क्रिकेट को काफी नुकसान पहुंचा है। वहीं, उन्होंने आमिर का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘मुझे इसमें कोई संदेह नहीं है कि बड़े नामों को छूट देने से पाकिस्तान क्रिकेट को भी नुकसान पहुंचा है।’’

‘बाबर को कप्तान के तौर पर शाबित करना होगा’
रमीज ने पाकिस्तान के युवा बल्लेबाज बाबर आजम की तारीफ करते हुए कहा, ‘‘इसमें कोई शक नहीं बाबर आजम में क्षमता है, वह विश्व स्तरीय खिलाड़ी हैं। यदि वह अपने खेल में थोड़ा और सुधार लेकर आए, तो एकमात्र वही खिलाड़ी है, जो विराट कोहली को मात दे सकता है। लोग बाबर की तुलना विराट और स्टीव स्मिथ जैसे खिलाड़ियों से करते हैं। प्रशंसक मुझसे इस बारे में पूछते हैं तो मैं कहता हूं कि वह कोहली से भी बेहतर कर सकते हैं। इसके लिए उन्हें एक खिलाड़ी और कप्तान के रूप में खुद को शाबित करने के लिए अनुकूल माहौल और स्वतंत्रता की जरूरत है।’’

स्पॉट फिक्सर को फांसी की सजा मिलनी चाहिए: मियांदाद
मियांदाद ने यूट्यूब चैनल पर कहा था, ‘‘स्पॉट फिक्सिंग में लिप्त खिलाड़ियों को कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए। जैसे किसी की हत्या करना गंभीर अपराध है, वैसे ही यह भी माफी लायक जुर्म नहीं है। स्पॉट फिक्सिंग करने वालों को फांसी दे दी जानी चाहिए। उन्हें दोबारा क्रिकेट खेलने का अधिकार नहीं होता है।’’

मियांदाद ने कहा, ‘‘स्पॉट-फिक्सर को फांसी देकर एक उदाहरण स्थापित किया जाना चाहिए ताकि कोई भी खिलाड़ी ऐसा कुछ करने के बारे में न सोचे। ये बातें हमारे धर्म (इस्लाम) की शिक्षाओं के खिलाफ हैं। हम सभी को उसी के अनुसार व्यवहार करना चाहिए। पीसीबी (पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड) उन्हें माफ करके सही नहीं कर रहा है। स्पॉट-फिक्सर को वापस लाने वालों को खुद पर शर्म आनी चाहिए।’’