ALL राजनीति मनोरंजन तकनीकी खेल कारोबार धार्मिक अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय ई पेपर पीआर न्यूजवायर
महाभारत की 'द्रौपदी' रूपा गांगुली भी हो चुकी हैं मॉब लिंचिंग का शिकार, बताई आपबीती
April 22, 2020 • Rashtra Times

बीते दिनों महाराष्ट्र के पालघर में 3 लोगों की चोरी के शक में पीट-पीटकर हुई हत्या की हर कोई निंदा कर रहा है। इस भीड़ हिंसा में तीन लोगों की हुई मौत में दो साधु थे। कई बॉलीवुड सितारों ने भी पालघर भीड़ हिंसा की आलोचना की है। इस बीच बीआर चोपड़ा के महाभारत सीरियल में द्रौपदी का किरदार निभाने वाली मशहूर अभिनेत्री रूपा गांगुली ने खुद के साथ हुई ऐसी ही एक दर्दनाक घटना का खुलासा किया है। रूपा गांगुली ने ट्वीट कर बताया कि चार साल पहले उन्हें भी ऐसी भीड़ हिंसा का शिकार होना पड़ा था। वह बहुत मुश्किलों से खुद की जान बचा पाई थीं।

पालघर की घटना के जरिए खुद के साथ हुई भीड़ हिंसा को याद करते हुए रूपा गांगुली ने अपने ट्वीट में लिखा, 'मुझे कुछ दिनों से याद आ रहा है कि 22 मई, 2016 को डायमंड हार्बर में घटना हुई थी। जिसमें 17/18 लोग पुलिस को साथ लेकर, मुझे गाड़ी से उतारकर रास्ते पर पटक-पटकर मार रहे थे। गाड़ी भी तोड़-फोड़ दी थी। सिर पर दो मस्तिष्क रक्तस्त्राव झेलने पड़। बस मैं मरी नहीं थी, रैली ड्राइवर हूं, निकलकर आ गई।'
 अपने ट्वीट के साथ-साथ रूपा गांगुली ने महाभारत में द्रौपदी चीर-हरण का वीडियो भी पोस्ट किया और लिखा, 'हे कृष्ण, हे कृष्ण, हे कृष्ण।' सोशल मीडिया पर रूपा गांगुली के इस ट्वीट पर यूजर्स कमेंट के जरिए अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। बता दें कि पालघर घटना में अब तक 100 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। तीनों मृतक मुंबई के कांदिवली से सूरत अपने एक मित्र के अंतिम संस्कार में हिस्सा लेने जा रहे थे। इसमें 35 साल के सुशीलगिरी महाराज और 70 साल के चिकणे महाराज कल्पवृक्षगिरी थे। जबकि 30 साल का निलेश तेलगड़े ड्राइवर था।