ALL राजनीति मनोरंजन तकनीकी खेल कारोबार धार्मिक अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय ई पेपर पीआर न्यूजवायर
गहलोत बोले, हमने मेनिफेस्टो में किए 503 में से 119 वादे पूरे किए, बाकी पर काम चल रहा
December 16, 2019 • Rashtra Times

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि हमने अपने मैनिफेस्टो में जनता से किए 503 वादों में से 119 पूर कर दिए हैं। बाकी पर काम चल रहा है। हम पारदर्शी सरकार देने के प्रति वचनबद्ध हैं। प्रदेशवासियों ने विश्वास करके कांग्रेस की सरकार बनाई है जो अपना एक साल पूरा कर रही है। जो आशाएं एवं अपेक्षाएं जनता ने हमसे की थीं उसके अनुरूप खरे उतरने में हम लोग कामयाब रहे और उसका प्रमाण यह है कि जो भी चुनाव हुए हैं चाहे बाई इलेक्शन हों, पंचायतों के, चाहे नगर निकायों के और चाहे विधानसभा के बाय इलेक्शन हों, नगर निगमों के, नगर पालिकाओं के सब में कांग्रेस कामयाब रही है। जनता ने हमारे प्रयासों पर, हमारी नीति पर, हमारी नियत पर मोहर लगाई है उसके लिए मैं उनका आभारी हूं।

गहलोत ने कहा कि एक साल के कार्यकाल में हम जनता की अपेक्षाओं पर खरे उतरे हैं। जनता ने हमारी नीति और नियत पर मुहर लगाई है। हमारी सरकार भ्रष्टाचार कतई बर्दाश्त नहीं करेगी। जहां तक मिलावटखोरी की बात है तो इसके दोषियों को फांसी की सजा होनी चाहिए। अगर ऐसे मामलों में पुलिस मिली हो तो संबंधित अधिकारी कर्मचारी को बर्खास्त भी करना पड़े तो किया जाना चाहिए। इस बारे में मैंने डीडीपी से भी कहा है।

नागरिकता बिल के बारे में गहलोत ने कहा कि इसे छह-सात राज्य रिजेक्ट कर चुके हैं। केंद्र को इस कानून को निरस्त कर देना चाहिए। मैंने अधिकारियों से कहा है कि वे चौकस रहें इसको लेकर राज्य में माहौल न बिगड़े। आर्थिक स्थिति पर गहलोत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सलाहकार ने अमेरिका से कहा कि देश की अर्थव्यवस्था आईसीयू में जा चुकी है। डॉ मनमोहन सिंह जी कह रहे हैं की सामाजिक ताना-बाना खत्म हुआ है। देश में, भय का माहौल है, हिंसा का माहौल है, अविश्वास का माहौल है। सामाजिक नेटवर्क कमजोर हुआ है उसके कारण भी जीडीपी गिर रही है।

राहुल बजाज क्या बोले वह पूरा देश सुन रहा था, रघुराम राजन जी ने क्या कहा आरबीआई गवर्नर ने जिनको इस्तीफा देना पड़ा, खुद इस्तीफा देकर चले गए उन्होंने कहा पूरा सेंट्रलाइजेशन पीएमओ कर चुका है इसलिए अर्थव्यवस्था की स्थिति बिगड़ती जा रही है। गहलोत ने कहा कि पीएमओ ही इनकम टैक्स के माध्यम से तय करता है किसके खिलाफ क्या कार्रवाई करनी है, कहां छापे डालने हैं।