ALL राजनीति मनोरंजन तकनीकी खेल कारोबार धार्मिक अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय ई पेपर पीआर न्यूजवायर
चंद्रयान-2 के बाद ISRO का बड़ा मिशन कार्टोसैट-3, PSLV-C47 ने भरी सफल उड़ान
November 27, 2019 • Rashtra Times

श्रीहरिकोटा। तीसरी पीढ़ी के उन्नत भू-सर्वेक्षण उपग्रह कार्टोसैट-3 का प्रक्षेपण बुधवार की सुबह यहां सतीश धवन अंतरिक्ष केन्द्र के दूसरे लॉन्च पैड से किया गया। चंद्रयान-2 के बाद यह इसरो का पहला बड़ा मिशन है।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के मुताबिक उपग्रह प्रक्षेपण यान पीएसएलवी-सी47 के जरिए कार्टोसैट-3 तथा उसके साथ 13 नैनो उपग्रहों का भी प्रक्षेपण दूसरे लांच पैड से सुबह 09.28 बजे किया गया है।


PSLV-C47 प्रक्षेपण यान पीएसएलवी की एक्सएल श्रेणी की 21वीं उड़ान है। कार्टोसैट-3 तीसरी पीढ़ी का उन्नत उपग्रह है जिसकी हाई रिजोल्यूशन इमेजिंग क्षमता है। कार्टोसैट-3 को 509 किलोमीटर की ऊंचाई पर भूमध्यरेखा से 97.5 डिग्री की कक्षा में स्थापित किया जाएगा।


इसके अलावा पीएसएलवी-सी47 के जरिए अमेरिका के 13 नैनो उपग्रहों का भी प्रक्षेपण किया गया है जिन्हें इसरो की व्यावसायिक इकाई न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड के तहत इस अभियान में शामिल किया गया है।