ALL राजनीति मनोरंजन तकनीकी खेल कारोबार धार्मिक अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय ई पेपर पीआर न्यूजवायर
बीकानेर में पहले 2 पॉजिटिव मिले, टोंक में 12, जयपुर में 12, उदयपुर में 3 और दौसा में 1 केस; कुल आंकड़ा 166 पर पहुंचा
April 3, 2020 • Rashtra Times

जयपुर. राजस्थान में कोरोना संक्रमित लोगों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। शुक्रवार सुबह यहां 33 नए मामले सामने आए। जिसमें 12 टोंक से हैं। यह सभी टोंक में पहले पॉजिटिव मिल चुके तब्लीगी जमात के लोगों के परिवार से हैं। वहीं बीकानेर में भी 2 तब्लीगी जमात के लोग संक्रमित मिले हैं। इसके साथ जयपुर में भी 12 नए केस सामने आए हैं। वहीं 3 केस उदयपुर में सामने आए। इसके बाद जोधपुर में ईरान से लौटे 3 और दौसा में एक केस सामने आया। जिसके बाद राजस्थान में कुल आंकड़ा 166 पहुंच गया है। वहीं तब्लीगी संक्रमित लोगों की संख्या 29 हो गई है।  

इससे पहले गुरुवार को  13 नए मामले सामने आए। इनमें 7 जयपुर परकोटे के रामगंज से, 2 जोधपुर, 1 धौलपुर, 1 उदयपुर, 1 झुंझुनू (तब्लीगी जमात) और 1 भरतपुर (तब्लीगी जमात)  से है। वहीं अलवर में भर्ती एक 85 साल के बुजुर्ग की एसएमएस अस्पताल में मौत हो गई। उदयपुर के पहले मामले में एक 16 साल का बच्चा कोरोना पॉजिटिव मिला है। 

राजस्थान के 17 जिलों में कोरोना, सबसे ज्यादा 53 जयपुर में 

राजस्थान में कुल 33 जिले हैं। इनमें से अब तक 16 जिलों में कोरोना के केस मिल चुके हैं। सबसे ज्यादा केस जयपुर में मिले हैं। यहां अब तक 53 पॉजिटिव मिल चुके। इसके अलावा भीलवाड़ा 26, झुंझुनूं 9, जोधपुर 31 (इसमें 21 ईरान से आए), चूरू 8, टोंक 16, प्रतापगढ़ 2, डूंगरपुर 3, अजमेर 5, अलवर 2, बीकानेर 2, उदयपुर 4, दौसा, भरतपुर, धौलपुर, पाली और सीकर में एक-एक संक्रमित मिला।

अब तक तीन लोगों की मौत

राजस्थान में अब तक 3 कोरोना पॉजिटिव की मौत हुई है। पहली मौत 73 वर्षीय बुजुर्ग की हुई। उसे कई अन्य गंभीर बीमारियां भी थीं। बुजुर्ग डायलिसिस पर था। बीपी, किडनी और सांस लेने में काफी परेशानी थी। हालांकि चिकित्सक किडनी खराब होना मौत का कारण बता रहे हैं। दूसरी मौत एक 60 साल के व्यक्ति की हुई। दोनों के परिवार के दो-दो लोगों में भी कोरोनावायरस पॉजिटिव मिला है। जिसके बाद अब तीसरी मौत अलवर के 85 साल के बुजुर्ग की हुई है। जिन्हे ब्रेनहैमरेज हुआ था।
एडवाइजरी : एक-दूसरे की छतों पर भी न जाएं, इलाज के लिए मेडिकल टीम खुद ही आएगी
एसीएस हाेम राजीव स्वरूप से लाेगाें से अपील की है कि कर्फ्यूग्रस्त क्षेत्र में छताें पर दूरी बनाएं रखे। एक दूसरे की छत पर न जाएं। न ही किसी काे आने दें। हम हवाई निगरानी भी रख रहें हैं। मेडिकल टीम पूरे परकाेटे का सर्वे कर रही है। इसमें पूरी तरह से सहयाेग करें। किसी के भी खांसी बुखार जुकाम है ताे तत्काल मेडिकल टीम काे सूचना दें। जल्द चिकित्सा टीम घर पहुंचेगी। टीम काे लगा कि काेराेना के संक्रमण की आशंका है ताे संबंधित व्यक्ति काे टीम अपने साथ ले जा सकती है। इसमें सहयाेग करें। इससे डरने की बात नहीं है। मेडिकल टीम साथ लेकर जाती है ताे पूरा इलाज हाेगा।

कंट्रोल रूम में बढ़े प्रतिदिन एक हजार कॉल

कोरोना के प्रकोप के कारण पुलिस कंट्रोल रूम में रोजाना एक हजार से ज्यादा फोन कॉल बढ़ गए। जो ज्यादातर खाना लेने, दुकानदारों कालाबाजरी, कोरोना संदिग्ध दिखने या ट्रेवल प्लान जैसे बाहर जाने के लिए परमिशन कहां और कैसे मिलेगी। इस तरह के कॉल आ रहे है। पहले झगड़ा, चोरी, लूट, दुर्घटना या ट्रेफिक जाम जैसे फोन कॉल आ रहे थे। अभी वार रूम-कंट्रोल रूम में एक एडिशनल डीसीपी के नेतृत्व में करीब 60 पुलिसकर्मी हर वक्त मौजूद रहते हैं। ऐसे में लोगों की समस्या के बारे तुरंत संबंधित विभाग या थाने भिजवाकर समाधान करवा रहे हैं। हालांकि पिछले दो दिन में पुलिस द्वारा लॉक डाउन पर सख्ती करने के कारण गलियों में भीड़ घुमने जैसे फोन कॉल आने बंद हो गए। एडिशनल कमिश्नर अजयपाल लांबा ने बताया काेरोना के कारण एडिशनल डीसीपी राजेन्द्र खोत, प्रकाश चंद शर्मा व आदर्श चौधरी के नेतृत्व में तीन शिफ्ट चलाई जा रही है। छोटी-मोटी समस्या पर तुरंत एक्शन लिया जा सकता है। इसके साथ ही अभय कमांड सेन्टर से शहर की सभी मुख्य सड़कें और चौराहे पर लगे नाकाबंदी प्वाईंट पर सीसीटीवी कैमरों से निगरानी रखी जा रही है।