ALL राजनीति मनोरंजन तकनीकी खेल कारोबार धार्मिक अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय ई पेपर पीआर न्यूजवायर
बीएसई के 23 में से 14 सेक्टर लुढ़के, रियल्टी इंडेक्स में सबसे ज्यादा 5% गिरावट; टीवीएस मोटर्स के शेयर 5% गिरे
April 13, 2020 • Rashtra Times

मुंबई. सप्ताह में कारोबार के पहले दिन शेयरधारकों को मायूस होना पड़ा। सुबह से बाजार में गिरावट रही, जो कारोबार खत्म होने तक बढ़त में नहीं आ सकी। बाजार बंद होने पर सेंसेक्स ने 469.60 अंक या 1.51% नीचे 30,690.02 पर और निफ्टी 118.05 पॉइंट या 1.3% नीचे 8,993.85 का करोबार किया। गिरते बाजार का असर बीएसई सेक्टर पर भी हुआ। वहीं, ऑटो सेक्टर की अधिकतम कंपनियों के शेयरों में गिरावट देखने को मिली।

ऑटो सेक्टर में 5% से ज्यादा की गिरावट
बाजार के गिरने में ऑटो सेक्टर का अहम रोल रहा। इस सेक्टर के शेयरों में 5 प्रतिशत से ज्यादा की गिरावट रही। टीवीएस मोटर्स के शेयरों में सबसे ज्यादा 5.12% की गिरावट रही। इसके साथ, सबसे ज्यादा गिरने वाले शेयरों की कंपनी बालकृष्ण इंडस्ट्रीज, आयशर मोटर्स, हीरो मोटोकॉर्प लिमिटेड, एक्साइड इंडिया, अमरा राजा बैटरी, अपोलो टायर्स, मदरसन सुमी सिस्टम, एमआरएफ टायर, महिंद्रा एंड महिंद्रा और टीवीएस मोटर्स शामिल हैं।

बीएसई के सेक्टर में रहा उतार-चढ़ाव
बीएसई के सभी 23 सेक्टर में आज उतार-चढ़ाव देखने को मिला। इसके 9 सेक्टर में बढ़त और 14 सेक्टर में गिरावट रही। ऑटो सेक्टर, बैंकिग सेक्टर के शेयरों में ज्यादा गिरावट रही। वहीं, डायवर्सफील्ड फाइनेंशियल रेवेन्यू ग्रोथ, बीएसई एनर्जी, इंडिया इन्फ्रास्ट्रक्चर इंडेक्स, इंडिया मैन्युफैक्चरिंग इंडेक्स, फास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड्स, बीएसई फाइनेंस, बीएसई सीपीएसई, बीएसई हेल्थकेयर, बीएसई पीएसयू, बीएसई इंडस्ट्रीयल, बीएसई प्राइवेट बैंक, बीएसई इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, बीएसई टेलीकॉम, बीएसई यूटिलिटीज, बीएसई ऑटो, बीएसई बैंकेक्स, बीएसई कैपिटल गुड्स, बीएसई कंज्यूमर डुराबेल्स, बीएसई मेटल, बीएसई ऑयल एंड गैस, बीएसई पावर, बीएसई रियल्टी और बीएसई टेक में भी उतार-चढ़ाव रहा।
बीएसई पर करीब 45 फीसदी कंपनियों के शेयरों में गिरावट रही

बीएसई का मार्केट कैप 119 लाख करोड़ रुपए रहा
2,601 कंपनियों के शेयरों में ट्रेडिंग हुई। इसमें 1,205 कंपनियों के शेयर बढ़त में और 1,184 कंपनियों के शेयर में गिरावट रही
31 कंपनियों के शेयर 1 साल के उच्च स्तर और 126 कंपनियों के शेयर एक साल के निम्न स्तर पर रहे
391 कंपनियों के शेयर में अपर सर्किट और 238 कंपनियों के शेयर में लोअर सर्किट लगा