ALL राजनीति मनोरंजन तकनीकी खेल कारोबार धार्मिक अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय ई पेपर पीआर न्यूजवायर
13 दिसंबर से पौष मास, गुरु तारा होगा अस्त, मलमास के कारण शुभ कार्यों पर लगेगा विराम
December 9, 2019 • Rashtra Times

हमारे सनातन धर्म में मुहूर्त का बहुत महत्व होता है। शास्त्रानुसार किसी भी शुभ कार्य को संपन्न करने के लिए विशेष मुहूर्त का होना अति-आवश्यक माना गया है। शुभ मुहूर्त के बिना कोई भी शुभ कार्य जैसे विवाह, मुंडन, व्रत धारण/उद्यापन, गृहारंभ, गृह प्रवेश आदि कार्यों का निषेध रहता है। शुभ मुहूर्त में प्रारंभ या संपन्न किए गए कार्य अनेक दोषों का शमन करते हुए सिद्ध व सफल होते हैं। आगामी 13 दिसंबर 2019 से पौष मास प्रारंभ, गुरु अस्त एवं धनु संक्रांति (मलमास/खरमास) के चलते शुभ मुहूर्त का अभाव रहेगा। इस अवधि में समस्त शुभ कार्य वर्जित रहेंगे।

आइए जानते हैं किस-किस अवधि में किन कारणों से शुभ कार्यों का निषेध रहेगा।

मुहूर्ताभाव अवधि-

1. पौष मास आरंभ- 13 दिसंबर 2019 से 10 जनवरी 2020 तक।
2. गुरु तारा अस्त- 14 दिसंबर 2019 से 9 जनवरी 2020 तक।

3. मलमास/खरमास- 16 दिसंबर 2019 से 14 जनवरी 2020 तक।

उपर्युक्त अवधि अर्थात् 13 दिसंबर 2019 से 14 जनवरी 2020 तक मुहूर्ताभाव रहेगा। अत: इस अवधि में समस्त शुभ कार्य वर्जित रहेंगे।